BREAKING NEWS
post viewed 81 times

जापान के आबे के बाद अब फ्रांस के प्रेसिडेंट को लेकर वाराणसी पहुंचे पीएम मोदी, बोले- आज एक अद्भुत नजारा देखने को मिला

PM-MODI

काशी के लोगों ने फ्रांस के राष्ट्रपति का सम्मान और जबर्दस्त स्वागत कर कमाल कर दिया. फ्रांस के घर-घर में लोग जरूर पूछेंगे कि वाराणसी कहां है,

वाराणसी: फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को वाराणसी पहुंचे. वाराणसी मेें पीएम ने कहा, ‘ये मेरा सौभाग्य है कि वाराणसी की विकास की अनेक योजनाओं का शिलान्यास करने का अवसर मिला, लेकिन मैं आज बनारस के लोगों को धन्यवाद भी करना चाहता हूं. काशी के लोगों ने फ्रांस के राष्ट्रपति का सम्मान और जबर्दस्त स्वागत कर कमाल कर दिया. फ्रांस के घर-घर में लोग जरूर पूछेंगे कि वाराणसी कहां है, जहां हमारे नेता का इस तरह का स्वागत हो रहा है. आज एक अद्भुत नजारा देखने को मिला. हमारे इस प्रेम ने भारत और फ्रांस की दोस्ती को भिगो दिया.’

राष्ट्रपति मैक्रों और उनकी पत्नी ब्रिगिट की प्रधानमंत्री मोदी, राज्यपाल राम नाईक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अगवानी की. इससे पहले यहां मिर्जापुर में यूपी के सबसे बड़े सोलर प्लांट 75 मेगावॉट क्षमता वाले संयंत्र का उद्घाटन करने और गंगा में सैर के बाद पीएम मोदी ने डीएलडब्ल्यू में कई प्रोजेक्ट्स की शुरुआत की.

बता दें कि पीएम की संसदीय क्षेत्र में जापान के पीएम शिंजों आबे के बाद फ्रांस के प्रेसिडेंट मैक्रों वाराणसी आने वाले दूसरे राष्ट्र प्रमुख हैं. पीएम ने वाराणसी में विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया और ये प्रमुख बातें कहीं:-
– काशी और पटना को जोड़ने के लिए एक नई और तेज रेल सेवा शुरू हुई है
– जनसेवा के लिए रेल का उपयोग कैसे हो, ये इसका नतीजा है
– बनारस में पर्यटन की अपार संभावनाएं; यह धरती हमारे पूर्वजों की देन है और हमें इसे स्वच्छ रखना है
– जी की कोशिशों से उत्तर प्रदेश में पहले की तुलना में अब धान की खरीदी चार गुना बढ़ गई है
– किसानों को उनकी पैदावार का पैसा मिलने का अवसर प्राप्त हुआ है
– हमें स्वच्छता के अभियान को आगे बढ़ाना है और ‘वेस्ट को वेल्थ’ में बदलना है.
– काशी की औद्योगिक पहचान; भारत सरकार इसके निरंतर विकास और अपग्रेडेशन के लिए प्रतिबद्ध हैं
– आज हम वेस्‍ट से वेल्‍थ की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं और कचरा महोत्सव का आयोजन इसी का प्रतीक है.
– कबाड़ में से काम की चीज़े बन सकती है
– आने वाले दिनों में हमारा लक्ष्य आठ लाख परिवारों को मकान देना है
-आयुष्मान भारत योजना के तहत गरीब परिवारों को 5 लाख तक का अस्पताल का खर्च उपलब्ध कराया जाएगा और आरोग्य की दिशा में यह अत्यंत महत्त्वपूर्ण सिद्ध होगा
– हमारे बच्चे कुपोषण मुक्त हों, इसके लिए हमने प्रधानमंत्री पोषण मिशन योजना के तहत गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार को सहयोग उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया है

यूपी के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया
पीएम मोदी और फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों ने मिर्जापुर जिले में छानवे ब्लॉक स्थित दादर कलां में यूपी के सबसे बड़े सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया.
– दोनों नेताओ ने बटन दबाकर 75 मेगावॉट उत्पादन क्षमता वाले इस सौर ऊर्जा संयंत्र का लोकार्पण किया.
– 380 एकड़ से ज्यादा क्षेत्र में फैले इस विशाल संयंत्र
– एक लाख 19 हजार सौर पैनल लगे हैं
– इसका निर्माण फ्रांस की कंपनी एनगी ने 500 करोड़ रुपए से किया है
– संयंत्र में हर साल 15.6 करोड़ यूनिट और प्रतिमाह एक करोड़ 30 लाख यूनिट बिजली पैदा होगी
– इस वक्त भारत की अक्षय ऊर्जा क्षमता करीब 63 गीगावॉट है.
– देश में वैकल्पिक ऊर्जा जैसे सौर उत्पादित बिजली और वायु उत्पादित विद्युत की कीमत 2.44 रुपए प्रति यूनिट और 3.46 रुपए प्रति यूनिट के न्यूनतम स्तर पर आ चुकी है.
– विशेषज्ञों के मुताबिक अक्षय स्रोतों से मिलने वाली बिजली अपेक्षाकृत सस्ती, भरोसेमंद और पर्यावरण के अनुकूल होती है.
– पीएम ने कहा था कि भारत वर्ष 2022 तक अक्षय ऊर्जा स्रोतों से 175 गीगावॉट बिजली का उत्पादन करने लगेगा.
– आईएसए के गठन का मुख्य उद्देश्य दुनिया में एक हजार गीगावॉट सौर ऊर्जा उत्पादन क्षमता की स्थापना करना है
– आईएसए का लक्ष्‍य 2030 तक सौर बिजली के क्षेत्र में एक ट्रिलियन डॉलर का निवेश हासिल करना है

 

SHAREShare on Facebook0Share on Google+0Tweet about this on TwitterShare on LinkedIn0

Be the first to comment on "जापान के आबे के बाद अब फ्रांस के प्रेसिडेंट को लेकर वाराणसी पहुंचे पीएम मोदी, बोले- आज एक अद्भुत नजारा देखने को मिला"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*