BREAKING NEWS
post viewed 59 times

फूलपुर-गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव: जमानत भी नहीं बचा सके कांग्रेस के प्रत्याशी

bypoll-election

लखनऊ: फूलपुर और गोरखपुर में हुए लोकसभा उपचुनाव के नतीजों में बड़ा उलटफेर हुआ है. फूलपुर में सपा प्रत्याशी नागेंद्र पटेल ने बीजेपी को 59 हजार से अधिक मतों से हरा दिया. गोरखपुर में भी बीजेपी के प्रत्याशी उपेंद्र शुक्ल सपा प्रत्याशी से पिछड़ रहे हैं. वहीं, 2017 में यूपी विधानसभा चुनाव सपा के साथ चुनाव लड़ने वाली कांग्रेस के दोनों प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो गई है. कांग्रेस ने गोरखपुर से सुरहिता चटर्जी करीम को अपना उम्मीदवार बनाया था. वहीं, फूलपुर से मनीष मिश्रा को टिकट दिया था. इन दोनों ही सीटों पर बसपा ने अपने प्रत्याशी नहीं उतारे थे.

HIGHLIGHTS

  • दोनों लोकसभा सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों की जब्त हुई जमानत

  • दोनों जगहों पर सपा को मिली बढ़त

  • 2017 विधानसभा चुनाव में साथ चुनाव लड़े थे सपा-कांग्रेस

उप चुनाव के नतीजे सपा के लिए सुखद साबित हो रहे हैं. वहीं, करीब एक साथ पहले ही यूपी विधानसभा चुनाव सपा के साथ चुनाव लड़ने वाली कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों की चर्चा तक नहीं हो रही है. दोनों जगहों पर प्रत्याशी जमानत जब्त होने तक से नहीं बचा पाए हैं. सपा ने ये उप चुनाव कांग्रेस के बिना ही लड़ने का फैसला किया था. 2017 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को सपा से गठबंधन के बाद भी सिर्फ 7 सीट ही हासिल हुई थीं.

राहुल बोले- परिणामों से साफ कि बीजेपी से नाराज हैं मतदाता
नतीजे आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि उपचुनाव परिणामों से साफ है कि मतदाता भाजपा से कितना नाराज है. इसके चलते उसने गैर भाजपा उम्मीदवार को वोट किया. जबकि के पास जीत का सुनहरा मौका था. कहा कि आगे हम उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी की मजबूती और उसके पुनर्निर्माण की दिशा में काम करने के लिए प्रतिबद्ध हैं.

योगी ने कहा- जनता के फैसले का सम्मान
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो लोकसभा सीटों गोरखपुर और फूलपुर में भाजपा की हार स्वीकार कर ली है. फूलपुर में सपा प्रत्याशी के करीब 60 हजार वोटों से जीतने और गोरखपुर में भाजपा प्रत्याशी के पिछड़ने के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया में योगी ने कहा कि हम जनता के फैसले का सम्मान करते हैं. ये नतीजे अप्रत्याशित हैं. हम हार की समीक्षा करेंगे. विजयी उम्मीदवारों को हम बधाई देते हैं. उन्होंने आगे कहा कि हम अति आत्मविश्वास की वजह से हारे. सपा-बसपा ने राजनीतिक सौदेबाजी की. सपा-बसपा के बेमेल गठबंधन को समझने में कमी रही. मतदान प्रतिशत कम होना भी हार की एक वजह रही.

Be the first to comment on "फूलपुर-गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव: जमानत भी नहीं बचा सके कांग्रेस के प्रत्याशी"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*